अमृतसर रेल हादसा : 3 दिन का राजकीय शोक, मुख्यमंत्री ने रेल हादसे की मैजिस्ट्रेट जांच के दिए आदेश

0

अमृतसर। अमृतसर में दशहरे के दिन हुए ट्रेन हादसे के शिकार हुए लोगों के लिए चलाए जा रहे राहत कार्यो का जायजा लेने के लिए मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह शनिवार को सुबह 10 बजे पहुंचे। इस दौरान उन्होेने घटनास्थल का भी दौरा कर मौका मुआयना कर अधिकारियेां से जानकारी ली। इस दौरान मुख्यमंत्री ने अमनदीपसिंह अस्पताल में भर्ती घायलों का हालचाल भी पूछा। उन्होंने प्रशासन को घायलों तथा पीड़ित परिवार की हरसंभव सहायता देने का आश्वासन दिया।

नेताओं की रेटिंग और समीक्षा के लिए वोटरों का अनोखा टेक्नोलॉजी प्लैटफॉर्म ‘नेता ऐप’
रेल हादसे की मैजिस्ट्रेट जांच के आदेश, 3 दिन का राजकीय शोक
मुख्यमंत्री कैप्टन अमरेद्र सिंह ने शनिवार को अमृतसर रेल हादसे की मैजिस्ट्रेट जांच के आदेश देते हुए अमृतसर में 3 दिन के राजकीय शोक की घोषणा की है। इस दौरान उन्होंने कहा कि पंजाब सरकार पीड़तों की हर संभव सहायता करेगी। जालंधर के मंडलायुक्त के साथ-साथ, कैबिनेट मंत्रियों की 3 सदस्यीय समिति, केन्द्र सरकार तथा रेलवे प्रशासन भी दुघर्टना की जांच करेगा।
मुख्यमंत्री ने कहा कि पंजाब में इस घटना के बाद एक दिन का राजकीय शोक घोषित किया गया था। पर अमृतसर में 3 दिन का शोक रहेगा। इस कारण यहां के शिक्षण संस्थान 3 दिन बंद रहेंगे।
वीआईपी मौके पर पहुचेंगा तो काम कैसे होगा: मुख्यमंत्री
अमृतसर पहुंचने पर कैप्टन अमरिंदर सिंह ने घटनास्थल का जायजा लिया तो पत्रकारों ने पूछा कि उन्होंने मौके पर पहुंचने में 15 घंटे क्यों लगा दिए तो इसका जवाब देते हुए उन्होंने कहा कि जब यह घटना घटी तब मैं एयरपोर्ट पर था और इजरायल की आधिकारिक यात्रा पर जाने के लिए फ्लाइट का इंतजार कर रहा था। साथ ही, उन्होंने कहा कि हर वीआईपी मौके पर पहुंचेगा तो काम कैसे होगा।
कैप्टन सिंह ने कहा कि जब कोई हादसा होता है, तब सारा का सारा प्रशासन उसमें लग जाता है। हम यहां जितना जल्द हो सकता था, पहुंचे हैं। पंजाब की पूरी कैबिनेट आज अमृतसर में ही है।

कश्मीर के दो हकदारों को इंसानियत का संदेश देगी ‘चिकन बिरयानी-2’
हादसे में 59 लोगों की मौत
उन्होने कहा कि इस हादसे में अब तक 59 लोगों की मौत हो गई, जबकि 57 के करीब घायल हैं। उन्होंने प्रशासन को पीड़ितों की हर संभव सहायता करने के आदेश दिए हैं।
9 शवों की नहीं हुई पहचान
कैप्टन ने कहा कि हादसे में मारे गए ज्यादातर शवों की पहचान हो चुकी है। बस अभी तक 9 की पहचान नहीं हो सकी है। उम्मीद की जा रही है कि शाम तक उनके परिजनों का पता चल जाएगा। उन्हें इस हादसे से काफी दुख है। मरने वाले में ज्यादातर कम आयु के है। अमृतसर ट्रेन हादसे के पीड़ितों को मुआवजे के लिए 3 करोड़ रुपए राज्य सरकार ने जारी किए हैं।
रेलवे ने पीड़ितों के परिजनों के लिए हेल्पलाइन नंबर जारी किया
इस दौरान रेलवे के अधिकारियों ने बताया कि 01832223171 और 01832564485 नंबरों पर फोन करके हादसे के बारे में जानकारी ली जा सकती है। मनावला स्टेशन का फोन नंबर 0183-2440024, 0183-2402927 और फिरोजपुर का हेल्पलाइन नंबर 01632-1072 है।

गौरतलब है कि रेल की पटरियों के पास रावण दहन को देख रहे लोग ट्रेन की चपेट में आ गए जिसमें कम से कम 59 लोगों की मौत हो गई और 57 अन्य जख्मी हो गए।

अमृतसर में दशहरे पर बड़ा ट्रेन हादसा, 50 से अधिक की मौत

गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने अंर्तराष्ट्रीय सीमा पर जवानेां के साथ मनाया दशहरा

गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने शस्त्र पूजन पर कहा : शस्त्रों की शांति तब रहेगी जब दूसरी और से शस्त्र ना चले

हर ताजा खबर जानने के लिए हमारी वेबसाइट www.hellorajasthan.com विजिट करें या हमारे फेसबुक पेजट्विटर हैंडल,गूगल प्लस से जुड़ें। हमें Contact करने के लिएhellorajasthannews@gmail.comपर मेल कर सकते है।

 

 

Leave a Reply