’राजस्थान आन बान शान री धरती’, हमेशा मेरे दिल के करीब : राष्ट्रपति

0
जयपुर। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने कहा है कि राजस्थान से मेरा पुराना नाता है और यह प्रदेश हमेशा मेरे दिल के करीब रहा है। उन्होंने देश के उपराष्ट्रपति रहे स्व. भैरोसिंह शेखावत और लोकप्रिय नेता स्व. सुंदर सिंह भंडारी के नाम पर वंचित एवं पिछड़े वर्ग के कल्याण के लिए योजनाओं का शुभारंभ कर राज्य सरकार ने उन्हें सच्ची श्रद्धांजलि दी है।श्री कोविंद रविवार को जयपुर के बिड़ला सभागार में राज्य सरकार की ओर से आयोजित नागरिक अभिनंदन व सामाजिक न्याय की विभिन्न योजनाओं के शुभारंभ समारोह को संबोधित कर रहे थे। श्री कोविंद ने अपने भाषण की शुरूआत राजस्थानी में करते हुए कहा कि आन बान शान री राजस्थान की धरा पर आज म्हाणै घणी खुशी हो रही है। उन्होंने कहा कि राजस्थान के स्नेही लोग अपने अतिथि सत्कार के लिए हमेशा जाने जाते हैं और सराहे जाते हैं।
राष्ट्रपति भवन में भी राजस्थान
राष्ट्रपति ने कहा कि राजस्थान के लोगों में अपनी माटी, भाषा और मानवीय मूल्यों के प्रति गहरा लगाव है। उन्होंने कहा कि दिसम्बर 2016 में बिहार के राज्यपाल के रूप में मुझे छोटी खाटू में आने का अवसर मिला था। नागौर जिले के उस कस्बे में जो ऊर्जा और कर्मठता मुझे देखने को मिली है, वह हमेशा याद रहेगी। उन्होंने कहा कि मुझे राजस्थान के एक बड़े हिस्से को देखने का अवसर मिला है। मैंने अपने प्रवास के दौरान राजस्थान की प्रकृति और इंद्रधनुषीय संस्कृति को करीब से देखा है। उन्होंने कहा कि राष्ट्रपति भवन मकराना, जैसलमेर और अलवर के पत्थरों से बना है। यहां एक जयपुर कॉलम भी है। इस तरह राजस्थान मेरे मानस पटल पर हमेशा उपस्थित रहता है।
इजराइल के पीएम ने सराहा राजस्थानी ऑलिव-टी का जायका
श्री कोविंद ने कहा कि राजस्थान ने पर्यटन में विशेष ब्रांडिंग कर अपनी खास पहचान बनाई है। उन्होंने कहा कि जब इजराइल के प्रधानमंत्री राष्ट्रपति भवन में मेहमान के रूप में आए और राजस्थान के बीकानेर की ऑलिव-टी का जायका लिया तो उन्होंने इसकी खूब तारीफ की।
कल्याण सिंह के सार्वजनिक जीवन के योगदान का किया जिक्र
राष्ट्रपति ने कहा कि राजस्थान के नागरिकों को श्री कल्याणसिंह के रूप में एक ऎसे राज्यपाल का मार्गनिर्देशन प्राप्त है, जिनके सार्वजनिक जीवन में योगदान, कार्यकुशलता और अनुभवों को बहुत ही सम्मान के साथ देखा जाता है।
 मुख्यमंत्री श्रीमती वसुन्धरा राजे और टीम को बधाई
श्री कोविंद ने राजस्थान के विकास को निरंतर आगे बढ़ाने में कुशल नेतृत्व प्रदान करने और सामाजिक कल्याण की योजनाओं के लिए मुख्यमंत्री श्रीमती वसुन्धरा राजे और उनकी पूरी टीम को बधाई दी।
पोकरण को किया याद
राष्ट्रपति ने कहा कि आज से ठीक बीस वर्ष पूर्व 13 मई 1998 के दिन भारत ने राजस्थान की धरती पर ही परमाणु परीक्षण की एक श्रंखला सफलता पूर्वक सम्पन्न की थी। यह श्रंखला 11 मई से प्रांरभ होकर 13 मई तक चली थी।  मेरा सौभाग्य है कि मुझे पोकरण और रामदेवरा जाने का सुअवसर मिला है।
विश्व पर्यटन मानचित्र पर राजस्थान का विशेष स्थान
श्री कोविंद ने जयपुर, उदयपुर, कोटा और अजमेर को स्मार्ट सिटी योजना में शामिल करने पर खुशी जाहिर की। उन्होंने कहा कि आज से तीन सौ साल पहले जयपुर शहर देश का सुनियोजित और आधुनिक नगर था। उन्होंने कहा कि धरोहरों का सरंक्षण करने और आधुनिक सुविधाएं विकसित करने से राजस्थान में पर्यटन को और अधिक बढ़ावा मिला है। राजस्थान ने विश्व के पर्यटन मानचित्र पर अपना विशेष स्थान बनाने में सफलता हासिल की है।
राष्ट्रपति ने शुरू की तीन योजनाएं
राष्ट्रपति श्री कोविंद ने इन लोक कल्याणकारी योजनाओं का उद्घाटन किया।
•राजस्थान अनुसूचित जाति जनजाति वित्त एवं विकास सहकारी निगम द्वारा एससी, एसटी, ओबीसी, सफाई कर्मचारी और दिव्यांगजन को स्वरोजगार के लिए वर्ष 1980-81 और उसके बाद दिए गए 2 लाख रूपये तक के ऋण एवं ब्याज की माफी।
•एससी, एसटी, ओबीसी, अति पिछड़ा वर्ग के परिवारों को आजीविका का साधन उपलब्ध करवाने के लिए भैरोंसिंह शेखावत अंत्योदय स्वरोजगार योजना। इसमें 50 हजार परिवारों को 50 हजार रूपये तक का ऋण 4 प्रतिशत ब्याज पर बिना रहन उपलब्ध करवाया जाएगा।
•आर्थिक रूप से पिछड़े सामान्य श्रेणी के परिवारों को जीविका का साधन उपलब्ध करवाने के लिए सुंदर सिंह भण्डारी ईबीसी स्वरोजगार योजना। इसमें 50 हजार परिवारों को 50 हजार रूपये तक का ऋण 4 प्रतिशत ब्याज पर बिना रहन उपलब्ध करवाया जाएगा।
राष्ट्रपति श्री कोविंद सौम्यता और सादगी की प्रतिमूर्ति – राज्यपाल
राज्यपाल कल्याण सिंह ने प्रदेशवासियों की ओर से राष्ट्रपति का स्वागत और अभिनन्दन किया। श्री सिंह ने कहा कि राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद बहुआयामी प्रतिभा के धनी एवं उच्च कोटि के विधिवेत्ता हैं। उन्होंने कहा कि श्री कोविंद सौम्यता व सादगी की प्रतिमूर्ति हैं। राज्यपाल ने कहा कि श्री कोविंद अपने परिश्रम, देश के प्रति अटूट निष्ठा और ईमानदारी के मार्ग पर चलकर राष्ट्र के सर्वोच्च पद पर पहुंचे हैं।
वंचितों को आगे लाने में मददगार होंगी नई योजनाएं – मुख्यमंत्री

मुख्यमंत्री श्रीमती वसुन्धरा राजे ने कहा कि हमारे राष्ट्रपति हमारे प्रेरणा स्रोत हैं जिन्होेंने पिछड़े और कमजोर वर्गों के उत्थान के लिए एक लम्बा संघर्ष किया है। उन्होंने कहा कि हमारी सरकार प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी के नेतृत्व में ‘एक भारत-श्रेष्ठ भारत’ के सपने को साकार करने के लिए दृढ़ इच्छा शक्ति से काम कर रही है। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार ने वंचितों को आगे लाने के लिए कई योजनाएं चलाई हैं। ये योजनाएं कमजोर वर्ग को मुख्य धारा से जोड़ने में सार्थक सिद्ध हो रही हैं। श्रीमती राजे ने कहा कि आईआईटी, आईआईएम और राष्ट्रीय स्तर के मेडिकल, प्रौद्योगिकी और विधि विश्वविद्यालयों में प्रवेश के लिए अनुसूचित जाति और जनजाति के छात्रों के लिए मुख्यमंत्री निःशुल्क कोचिंग योजना शुरू की है। इस वर्ग के लोगों को उद्योग लगाने के लिए ऋण राशि 5 लाख से बढ़ाकर 10 लाख कर दी गयी है और सब्सिडी की दर 4 से बढ़ाकर 8 प्रतिशत की है।

हमारी पहली सोच, शिक्षित और स्वस्थ राजस्थान

खुशखबरी: रेलवे करेगा खान-पान सेवा में सुधार

मुख्यमंत्री ने कहा कि शिक्षित और स्वस्थ राजस्थान हमारी पहली सोच है और इसे पूरा करने के लिए हमने प्रयास कर हजारों स्कूलों का एकीकरण किया। उन्हाेंने कहा कि शिक्षा के क्षेत्र में हमारा प्रदेश 26वें स्थान से दूसरे पायदान पर पहुंच गया है। मुख्यमंत्री ने कहा कि हमने हमारी बेटियों को हमेशा अमानत माना और प्रधानमंत्री जी के सपने को पूरा करते हुए मुख्यमंत्री राजश्री योजना, स्कूटी, लैपटॉप, साइकिल, ट्रांसपोर्ट वाउचर और स्कॉलरशिप की कई योजनाएं शुरू की हैं।

 जहां के बारे में सोचना भी सम्भव नहीं था, आज वहीं इलाज
श्रीमती राजे ने कहा कि भामाशाह स्वास्थ्य बीमा योजना के कारण आज गरीब व्यक्ति भी उस प्राइवेट अस्पताल में इलाज करा सकते हैं जिसके बारे में पहले वे सोच भी नहीं सकते थे। उन्होंने कहा कि महिलाएं राजस्थान के विकास की धुरी हैं इसलिए हमने भामाशाह योजना को पुनः शुरू किया। घर की महिला को परिवार का मुखिया बनाया और उसके हाथ में भामाशाह कार्ड दिया।
समय से पहले पूरा किया प्रधानमंत्री का सपना
मुख्यमंत्री ने कहा कि हमने प्रधानमंत्री जी के स्वच्छ भारत के सपने को समय से पहले पूरा किया है। पूरा प्रदेश 2018 में ही खुले में शौच से मुक्त हो चुका है। उन्होंने कहा कि जयपुर शहर भी स्वच्छता के साथ-साथ सुन्दरता में आगे बढ़ रहा है। जो द्रव्यवती नदी गंदे नाले में तब्दील हो चुकी थी, वह फिर से जयपुर की शान बनेगी। उन्होंने कहा कि निरन्तर प्रयासों और केन्द्रीय सड़क परिवहन मंत्री श्री नितिन गड़करी के समन्वय से 15 अगस्त तक जयपुर रिंग रोड का कार्य भी पूरा हो जाएगा।
योजनाओं के लाभार्थियों को प्रदान किए चैक

राष्ट्रपति श्री रामनाथ कोविंद ने राज्य सरकार की तीन महत्वपूर्ण योजनाओं का शुभारम्भ करने के साथ ही इन योजनाओं के पांच-पांच लाभार्थियों को ऋण राशि के चैक एवं प्रमाण पत्र प्रदान किए। भैरोंसिंह शेखावत अंत्योदय स्वरोजगार योजना की लाभार्थी श्रीमती मीरा देवी, श्रीमती तुलसी देवी, श्रीमती नहना देवी, श्री रामजीलाल मीना एवं श्री राजेन्द्र सैनी को 50-50 हजार के चैक प्रदान किए। सुंदर सिंह भण्डारी ईबीसी स्वरोजगार योजना के लाभार्थी श्री सुनील गुर्जर, श्री अनिल गुर्जर, श्री अखिल गुर्जर, श्रीमती सुनीता देवी एवं सुश्री संगीता गुर्जर को 50-50 हजार रुपये ऋण के चैक प्रदान किए। इसके अलावा राष्ट्रपति ने श्रीमती कौशल्या बलाई, श्री बृजेश कुमार बलाई, श्री मदनलाल, श्री राजेन्द्र मेघवाल एवं श्रीमती गुल्ली देवी मीना को राजस्थान अनुसूचित जाति जनजाति वित्त एवं विकास सहकारी निगम द्वारा एससी, एसटी, ओबीसी, सफाई कर्मचारी और दिव्यांगजन को स्वरोजगार के लिए वर्ष 1980-81 और उसके बाद दिए गए 2 लाख रुपये तक के ऋण एवं ब्याज की माफी के प्रमाण पत्र प्रदान किए। कार्यक्रम के अंत में गृहमंत्री श्री गुलाबचंद कटारिया ने धन्यवाद ज्ञापित किया। इससे पहले जयपुर महापौर श्री अशोक लाहोटी ने राष्ट्रपति एवं अन्य अतिथियों का स्वागत किया। समारोह में राष्ट्रपति श्री रामनाथ कोविंद की पत्नी एवं देश की प्रथम महिला श्रीमती सविता कोविंद, विधानसभा अध्यक्ष श्री कैलाश मेघवाल, राज्य मंत्रिपरिषद के सदस्य, जनप्रतिनिधि, वरिष्ठ अधिकारी एवं आम नागरिक उपस्थित थे।

एयर इंडिया का शानदार आॅफर: बुजुर्गों को आधे किराये में कराएगा हवाई सफर

पढ़ें: – आखिर आपका आधार कार्ड कहां-कहां हुआ इस्तेमाल, ऐसे जाने

Leave a Reply