सोहराबुद्दीन एनकाउंटर मामले में दिनेश एमएन हुए बरी

मुंबई। सोहराबुद्दीन एनकाउंटर मामले में मंगलवार को मुंबई हाईकोर्ट ने अहम फैसला सुनाते हुए आईपीएस दिनेश एमएन को बरी कर दिया है। इस मामले में कोर्ट ने पर्याप्त सबूतों और गवाहों के नहीं मिलने पर दिनेश एमएन को बरी किया। उनके खिलाफ पर्याप्त साक्ष्य नहीं जुटाए जा सके। वे इस समय राजस्थान में एसओजी महानिरीक्षक हैं। सोहराबुद्दीन एनकाउंटर मामले में बरी के होने के बाद राजस्थान के नए डीजीपी अजीत सिंह ने अदालत के फैसले का स्वागत किया है।
उन्होंने कहा कि दिनेश एमएन पुलिस के कर्मठ और ईमानदार अधिकारी हैं। मैं उनके उज्जवल भविष्य के लिए कामना करता हूं।
गौरतलब है कि 26 नवंबर 2005 में सोहराबुद्दीन एनकाउंटर के मामले में दिनेश को जेल की भी हवा खानी पड़ी थी। यह मामला कोर्ट में चल रहा था। गुजरात में हुए इस हाई प्रोफाइल एनकाउंटर मामले में पुलिस पर आरोप लगा था कि इसमें गलत तरीके से लोगों का एनकाउंटर किया गया, उसने पुलिस की छवि को धूमिल किया था। दिनेश एमएन 1995 के बैच के आईपीएस अधिकारी हैं, उन्हें बेहद तेज-तर्रा पुलिस अधिकारी के तौर पर गिना जाता है। दिनेश की अगुवाई में कई बड़े ऑपरेशन को अंजाम दिया गया है। उन्होंने कई ऑपरेशन को अपने कार्यकाल में पूरा किया है। हाल ही में दिनेश एमएन ने राजस्थान में कुख्यात गैंगस्टर आनंदपाल को पुलिस एनकाउंडर में मार गिराया था। उसके बाद उनकी काफी तारीफ हुई थी. आईजी दिनेश को एनकाउंटर स्पेशलिस्ट के तौर पर जाना जाता है।

पाइए हर खबर अपने फेसबुक पर।   likeकीजिए  hellorajasthan का Facebook पेज।

Loading...
Breaking News
राजस्थान :बुनकरों की आय बढ़े, गांव सशक्त और समृद्ध बनें-श्री मेघवाल श्रीगंगानगर: सीमावर्ती क्षेत्र में सीमा सुरक्षा बल ने पकड़ा डोडा पोस्त तस्कर राजस्थान : बेहतर सर्विस डिलीवरी से सरकार की योजनाओं का लाभ आमजन तक पहुंचाएं- मुख्यमंत्री ‘उड़ान’ योजना: पहली सस्ती फ्लाइट मु्ंद्रा-अहमदाबाद के बीच शुरू पंजाब की युवती से चलती ट्रेन में गैंगरेप राजस्थान : प्रदेश का चमकता हुआ सूरज बनकर उभरेगा बाड़मेर - मुख्यमंत्री राजस्थान : केंद्रीय राज्यमंत्री के प्रयास लाए रंग: बीकानेर में बनेगा 100 बैड का ईएसआईसी अस्पताल राजस्थान :बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ: डाक विभाग ने पश्चिमी क्षेत्र के 202 गाँवों को बनाया शत-प्रतिशत सुकन्या समृद्धि ग्राम राजस्थान :अकादमी द्वारा 48 पांडुलिपियों पर 5.74 लाख रु. तथा 22 पुस्तकों पर 2 लाख 20 हजार रु. का सहयोग स्वीकृत आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं की सभा - महिलाएं हर चुनौती का सामना करने में सक्षम - मुख्यमंत्री