राजस्थान : ऊंटनी के दूध की व्यवसायीकरण सोच जरूरी: श्री शेखावत

0

केन्द्रीय कृषि एवं कृषक कल्याण राज्यमंत्री ने किया एनआरसीसी का अवलोकन

बीकानेर। केन्द्रीय कृषि एवं किसान कल्याण राज्य मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत ने कहा कि उष्ट्र अनुसंधान केन्द्र ने ऊंटों की महत्ता सिद्ध करने के लिए अपनी प्रतिबद्धता दिखाई है। बदलते परिवेष में उष्ट्र पालन व्यवसाय को जीवित रखने हेतु केन्द्र ने ऊंट को एक दूधारू पशु के रूप में विकसित कर एक बेहतर विकल्प सुझाया है। साथ ही एनआरसीसी द्वारा ऊंटनी के दूध की मैडीसनल वैल्यू भी पता लगाई है परंतु ऊंटों की संख्या तेजी से घट रही है, ऐसे में दूध की व्यवसायीकरण सोच जरूरी है। क्योंकि कैमल मिल्क में विभिन्न मानवीय रोगों जैसे मधुमेह, टी.बी., ऑटिज्म आदि को ठीक करने का सामर्थ्य है और यह अब सर्वमान्य भी है। वे रविवार को एनआरसीसी में पशुपालक कृषक-वैज्ञानिक संवाद कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे।

राजस्थान : लक्ष्य प्राप्ति के लिए कड़ी मेहनत करें युवा- श्री मेघवाल
उन्होंने ऊंटनी के दूध के औषधीय गुणधर्माें एवं संस्थान द्वारा विकसित प्रौद्योगिकी पर बात रखते हुए कहा कि विश्व के कई देशों में ऊंटनी के दूध से बने उत्पादों विशेषकर पाउडर आदि की बिक्री कीमत बहुत ज्यादा है। ऐसे में जब एनआरसीसी ने इस दूध से बने अनेकानेक दूध उत्पाद जैसे चाय, कॉफी, आइसक्रीम, फ्लेवर्ड मिल्क आदि विकसित किए गए है तो ऐसे में देष में अमूल के कन्सेप्ट की तरह ही इन उत्पादों का व्यावसायीकरण होने पर ऊंट पालकों की आय को दुगुना की अपेक्षा कई गुना भी बढ़ाया जा सकता है। उन्होंने ऊंट पालकों को प्रोत्साहित करते हुए कहा कि यह एक ऐसा पशु है जो जीते जी व मरने के बाद भी अपने स्वामी को लाभ मुहैया करवाता है, अतः पर्यटन के दृष्टिकोण से इस व्यवसाय में प्रबल संभावनाएं है।

Rajasthan RBSE 10th Result 2018 : सेामवार को जारी होगा 10वीं का रिजल्ट
श्री शेखावत ने बैठक से पूर्व एनआरसीसी के उष्ट्र संग्रहालय, डेयरी, फीड टैक्नोलॉजी आदि का अवलोकन करते हुए उष्ट्र सवारी का भी आनंद लिया। उन्होंने एनआरसीसी परिसर में पौधा भी लगाया।
इस अवसर पर केन्द्र निदेषक डॉ.एन.वी.पाटिल ने ऊंटों के विभिन्न पहलुओं से जुड़ी संस्थान की उपलब्धियों की जानकारी देते हुए कहा कि केन्द्र ऊंटनी के दूध पर गहन अनुसंधान कर इसकी महत्ता सिद्ध कर चुका है, अब इसका विपणन किया जाना है। इसके लिए नीतिगत (पॉलिसी सपोर्ट) सहायता आवश्यक है साथ ही तथा राज्य सरकार व पशुपालन विभाग भी आगे आएं क्योंकि अब रायका समाज/ ऊंट पालक भी इसके दूध संबंधी भ्रांतियों से ऊपर उठकर व्यवसाय हेतु उत्सुक है। डॉ.पाटिल ने बताया कि एनआरसीसी ने ऊंट की अनुकूलन, रोग प्रतिकारक क्षमता एवं दूध के औषधीय गुणधर्माें को ध्यान में रखते हुए महत्वपूर्ण अनुसंधान परिणाम प्राप्त किए हैं। केन्द्र ने यह पता लगाया है कि कैमल की इम्यूनोलॉजी अद्वितीय है, इसका करेक्ट्राईजेषन भी किया गया है। केन्द्र इको-टूरिज्म हेतु प्रयासरत है।
ब्रिटिश सहित अन्य देशों के लिए प्ररेणा का स्रेात बना अभिलेखागार

डॉ.पाटिल ने केन्द्र की समन्वयात्मक अनुसंधान उपलब्धियों एवं केन्द्र में साईंटिफिक संवर्ग आदि की कमी की ओर ध्यान आकर्षित करवाते हुए सहयोग की अपेक्षा जताई। इस अवसर पर केन्द्रीय शुष्क बागवानी संस्थान के निदेशक डॉ.पी.एल.सरोज ने अपने संस्थान की उपलब्धियों संबंधी विवरण करते हुए अपने विचार रखे।
इस अवसर पर राजूवास के पूर्व कुलपति प्रो.ए.के.गहलोत, प्रगतिशील उष्ट्र पालक जगमाल सिंह राईका, शंकर रेबारी, उदयुपर, श्रेयकुमार, उपस्थित थे। इस दौरान केन्द्र की राजभाषा पत्रिका ‘करभ’ का विमोचन किया गया। कार्यक्रम संचालन प्रधान वैज्ञानिक डॉ.सुमन्त व्यास ने किया।

कृषि अनुसंधान एवं लाभकारी तकनीक को किसानों तक पहुँचाने में कृषि विज्ञान केन्द्रों की भूमिका अहम: प्रो.छीपा

हर ताजा खबर जानने के लिए हमारी वेबसाइट www.hellorajasthan.com विजिट करें या हमारे फेसबुक पेजट्विटर हैंडल,गूगल प्लस से जुड़ें।हमें Contact करने के लिएhellorajasthannews@gmail.comपर मेल कर सकते है।

Leave a Reply