जनसंपर्क कर्मी खुद को नई तकनीक और शब्दों के साथ करते रहें अपडेट : रजिस्ट्रार

0
जयपुर। बीकानेर विश्वविद्यालय के रजिस्ट्रार और आईएएस अधिकारी मनोज कुमार ने कहा कि संवाद और संप्रेषण का तरीका बेहतर हो तो हर जनसंपकर्मी की बात जन-जन तक आसानी से पहुंच सकती है। उन्होंने कहा कि सफल जनसंपर्क कर्मी वही है जो संवाद को टारगेट गु्रप तक जस की तस पहुंचा सके।
श्री मनोज रविवार को रोटरी भवन में आयोजित पब्लिक रिलेशंस सोसायटी की ओर से आयोजित जनसंपर्क अलंकरण समारोह-2018 को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि आज के दौर में जनसंपर्क का दायरा और पहुंच काफी कुछ बदल गया हैं। ऎसे में जनसंपर्क कर्मियों को नई तकनीक के साथ खुद को अपडेट करते रहना बेहद जरूरी हो गया है। उन्होंने कहा कि जनसंपर्क कर्मी ज्यादा से ज्यादा शब्दों के साथ दोस्ती करने का प्रयास करें और स्वयं की अभिव्यक्ति का कोई भी अवसर नहीं छोड़ें। 
समारोह में जनसंपर्क और सामाजिक क्षेत्रों में बेहतर कार्य करने वाली दो दर्जन से ज्यादा प्रतिभाओं को भी सम्मानित किया गया। इस दौरान मांड गायिका श्रीमती मांगीबाई (मरणोपरांत), मरहूम सलीम कागजी  (मरणोपरांत) और भावना जगनानी को जनसंपर्क गौरव से अलंकृत किया गया। लाइफटाइम अचीवमेंट सम्मान से एमएस डोरिया और जनसंपर्क में बेहतरीन काम करने के लिए डॉ. पवन सिंघल, आलोक आनंद, प्रकाश चन्द्र शर्मा, राजकुमार राजपाल, विशाल अमन, सर्वेश तिवारी, धीरज पारीक, आरडी खंडेलवाल और राखी पूनम सपेरा को जनसंपर्क विशिष्ट सम्मान से नवाजा गया।
सूचना एवं जनसंपर्क विभाग के संयुक्त निदेशक और संस्था के महासचिव अरुण जोशी ने संस्था की गतिविधियों के बारे में परिचय दिया। कार्यक्रम का संचालन प्रदीप कुलश्रेष्ठ ने किया जबकि धन्यवाद संस्था के अध्यक्ष वाईके शर्मा ने दिया। इस दौरान इलेक्ट्रोनिक और प्रिंट मीडिया से जुड़े गणमान्य भारी संख्या में उपस्थित रहे।

Leave a Reply