नेताओं की रेटिंग और समीक्षा के लिए वोटरों का अनोखा टेक्नोलॉजी प्लैटफॉर्म ‘नेता ऐप’

0

राजस्थान में ‘नेता ऐप’ पर मत देने वालों की संख्या 45 लाख के पार

नई दिल्ली। देश के कई राज्यों में विधानसभा चुनाव होने वाले है, जिसके चलते हर दिन नए इनोवेशन हेा रहे है। अब मतदाताअेां को पहली बार ‘नेता ऐप’ पर नेताओं की रेटिंग और उनकी जिम्मेदारी तय करने का अवसर मिलेगा। राजस्थान के 45 लाख से अधिक सत्यापित वोटर कर चुके हैं राजनीतिक प्रतिनिधियों की रेटिंग। इस ऐप को भारत के पूर्व राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी ने देश की राजधानी में दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल की उपस्थिति में नेता ऐप लांच किया। इसी साल लांच ‘नेता’ सुर्खियों में रहा है।

विधानसभा चुनाव 2018:भाजपा की बैठक में प्रत्याशियों का पैनल हुआ तैयार
पहली बार पेश यह टेक्नोलॉजी प्लैटफॉर्म देश के मतदाताओं को उनके जन प्रतिनिधियों की रेटिंग और उनकी समीक्षा करने का अनोखा अवसर देता है। राजस्थान में आगामी विधानसभा चुनावों के मद्देनजर राज्य के सभी 200 विधानसभाओं के 45 लाख से अधिक सत्यापित मतदाता राजनेताओं की रेटिंग और समीक्षा कर चुके हैं। ऐप आम जनता को राजनेताओं की जिम्मेदारी तय करने का अवसर देता है। इस बात का आरंभिक संकेत देता है कि किसी नेता के काम-काज को लेकर जनता क्या राय रखती है।
उत्तरी भारत का प्रसिद्ध मंदिर शक्ति पीठ व धार्मिक पर्यटन स्थल-वैष्णोधाम

राजस्थान के न केवल महानगरों बल्कि चुरू, झुंझुनु और श्रीगंगानगर जैसे टियर 2 और टियर 3 शहरों में भी ऐप की लोकप्रियता तेजी से बढ़ रही है। पूरे देश के लिए उपलब्ध ऐप के आज 1.6 करोड़ सबस्क्राइबर हैं। यह ध्यान रखते हुए कि ऐप विभिन्न वर्ग के लोग इस्तेमाल करेंगे इसे एंड्रॉयड, पव्ै और 16 भाषाओं में वेब पर उपलब्ध करया गया है। ग्रामीण आबादी समेत सभी प्रकार के जनसमूह इसका उपयोग करें इसलिए ‘नेता ऐप’ विभिन्न माध्यमों का उपयोग करता है जैसे ऐप, आईवीआर कॉल, एसएमएस और फिर आशावादी और आंगनबाड़ी वर्कर्स की मदद से ऑफलाइन एक्टिवेशन भी। नेता ऐप का लक्ष्य राजनीति के नए रुझानों के बारे में जानकारी जुटाना है।
राजस्थान: किसान हुंकार महारैली में 29 अक्टूबर को बेनीवाल करेंगे अपनी पार्टी का ऐलान

नेता ऐप के राजस्थान लांच पर इसके फाउंडर प्रथम मित्तल ने कहा, ‘‘राज्य में जल्द ही चुनाव होने वाले हैं। इसलिए यह सही वक्त है कि जनता अपने नेताओं के बारे में अधिक से अधिक जाने और यह संकेत भी दे कि उन्हें कैसा जन प्रतिनिधि चाहिए। नेता ऐप से जनता के लिए यह काम चुटकी में होगा। राजस्थान में जिस स्तर पर ऐप अपनाया गया हम उससे बहुत उत्साहित हैं। हम आशा करते हैं कि राजनीतिक दल लोगों की पसंद-नापसंद (प्रेफरेंस) से सबक लेंगे जो ऐप पर जनता जाहिर करती है। राजनीतिक दलों के लिए सही उम्मीदवार के चयन में इस ऐप का बड़ा लाभ होगा। कुल मिला कर यह प्रजातंत्र की बड़ी जीत होगी।’’
लांच के अवसर पर दो-दो चुनाव आयुक्तों की मौजूदगी सुनिश्चित कर नेता ऐप का लक्ष्य देश के जनमानस और राजनीतिक भागीदारी पर गहरा असर पैदा करना है। ऐप में विधायकों और सांसदों की रेटिंग की स्पष्ट क्षमता के साथ देश के प्रत्येक विधान सभा क्षेत्र में किसी समय में मतदाता की भावना आंकने की क्षमता भी है। उभरते नेताओं के लिए यह ऐप उनकी लोकप्रियता दिखाने का माध्यम है और इसकी मदद से वे राजनीतिक पार्टियों का ध्यान आकृष्ट कर सकते हैं। नए ऐप की वजह से सत्ताधारी दलों के उम्मीदवारों को मैदान में टिकने के लिए खासी मशक्कत करनी होगी क्यों अब चुनाव लड़ने के इच्छुक ऐसे किसी व्यक्ति को यह ऐप पहचान देगा जो अपने विधान सभा क्षेत्र से 1000 वोट हासिल कर लेते हैं। गौरतलब है कि राजस्थान से अब तक लगभग 3000 नागरिक इस ऐप पर पर खुद को नोमिनेट कर चुके हैं ताकि इनकी लोकप्रियता पार्टी के अलाकमान की नजर में आए।
इस अवसर पर पूर्व चुनाव आयुक्त एस वाई कुरैशी, नसीम जैदी, अश्विनी कुमार (भारत के पूर्व कानून मंत्री), मुरली मनोहर जोशी (सांसद एवं पूर्व मानव विकास मंत्री) और शिवराज पाटील (भारत के पूर्व गृहमंत्री), विजय साम्पला (सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता राज्य मंत्री) भी मौजूद।

मेाबाइल यूजर के लिए खुशखबरी: नंबर पोर्ट कराना होगा आसान, 48 घंटे में बदल सकेंगे ऑपरेटर

हर ताजा खबर जानने के लिए हमारी वेबसाइट www.hellorajasthan.com विजिट करें या हमारे फेसबुक पेजट्विटर हैंडल,गूगल प्लस से जुड़ें। हमें Contact करने के लिएhellorajasthannews@gmail.comपर मेल कर सकते है।

Leave a Reply