देशभर में देह व्यापार को वैध करने की मांग

0

जब युवतियां रात को चैाक पर बेालने लगी…

नई दिल्ली। देशभर में यौन कर्मियों और उनने परिवार को स्थाई रुप से पुनर्वास और जीवन में उत्थान के प्रयास करने को लेकर एक स्वंयसेवी संगठन ने प्रधानमंत्री को पत्र लिखकर इसे कानूनी रुप से वैद्या करने की मांग की है। इससे पहले भी देश के कई हिस्सों से इसकी मांग उठ चुकी है।
खास खबर : अब ऐड्रेस प्रूफ के लिए पासपोर्ट नही होगा मान्य

भारतीय पतिता उद्धार सभा के खैराती लाल भोला ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखकर मांग की है कि यौन कर्मियों को अभी कई तरह की समस्याओं से मुकाबला करना पड़ रहा है। उनके पास जो रुपये आते है उससे वे पुलिस व अन्य लोगों को देते है। इसलिए इस पर रोक के लिए भी इसे वैद्य करना जरुरी है। इससे इसमें शामिल महिलाओं को उनके मूल अधिकार मिल सकेगा और वे अपना जीवन यापन भी अच्छे ढंग से कर सकेंगी।

खेत से अगवा कर नाबालिग लड़की से चलती कार में गैंगरेप

उन्होने पत्र में बताया कि देह व्यापार को कानूनी जामा पहनाने से यौन कर्मी अपनी आय को अपने पास रख सकेंगी और अपने बच्चों को शिक्षा दिला सकेंगी। उन्होने दावा किया कि देह व्यापार करोड़ो रुपये का कारोबार है और इसमें यौन कर्मी जो कमाई करती हैं उन्हें कोठे वाले, पुलिस और अन्य लोग हथिया लेते हैं। संगठन ने कहा कि देह व्यापार को कानूनी रूप देने के बाद यौन कर्मियों को संबंधित प्राधिकार लाइसेंस जारी करें और बिना लाइसेंसी यौन कर्मियों पर कार्रवाई की जाए।

रिसर्च में आया सामने : मसाज कराने गई 180 महिलाएं यौन शोषण की शिकार

संगठन का दावा है कि देश में 54 लाख यौन कर्मी हैं और उनके 25 लाख बच्चे हैं। इनमें से कई एड्स समेत विभिन्न् बीमारियों से पीड़ित हैं और वे पेय जल सहित अन्य बुनियादी सहूलियतों से महरूम हैं। संगठन ने कहा कि केंद्र और किसी राज्य सरकार ने यौन कर्मियों के कल्याण के लिए अभी तक कोई योजना नहीं बनाई है।

रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण ने फाइटर जेट सुखोई में भरी उड़ान

हरियाणवी डांसर सपना चैाधरी की अब भोजपुरी फिल्मों में एंट्री

भाजपा नेता पर नाबालिग से दुष्कर्म कर विडियेा क्लिप बनाने का आरोप

ऐसी डाक्टर जो न्यूड होकर करती है मरीजों का इलाज

पढ़ें: – आखिर आपका आधार कार्ड कहां-कहां हुआ इस्तेमाल, ऐसे जाने

पाइए हर खबर अपने फेसबुक पर।   likeकीजिए  hellorajasthan का Facebook पेज।

Leave a Reply