खास खबर: विभन्न भाषाअेां के 23 लेखकों को साहित्य अकादमी पुरस्कार

0

नई दिल्ली। साहित्य अकादमी ने विभिन्न भाषाओं के 23 लेखकों को वार्षिक पुरस्कार प्रदान किया। जिसमें लेखकों को एक उत्कीर्ण की हुई तांबे की पट्टिका, एक शॉल और एक लाख रूपये नकद राशि प्रदान की गई।


इस अवसर पर साहित्य अकादमी के अध्यक्ष नियुक्त हुए चंद्रशेखर कंबार ने कहा कि अकादमी ‘‘देश के सभी समृद्ध एवं विविध साहित्यों को यहां साथ लाना जारी रखेगी।’’ अंग्रेजी, बोडो, तेलुगू, हिंदी और पंजाबी सहित सभी 23 भाषाओं में लिखी गई अधिकतर पुरस्कृत पुस्तकें सामाज और सामाजिक मुद्दों पर केंद्रित हैं।
अफसर अहमद की ‘सेई निखोंज मनुष्ठा’ बंगाली भाषा में लिखी गई है जो कि अपनी जमीन गंवाने वाले लोगों का संकट दिखाती है, वहीं असमी लेखक जयंत माधब बोरा की ‘मोरियाहोला’ विस्थापित लोगों के मुद्दों पर केंद्रित है। अंग्रेजी लेखक ममांग दाई की पुस्तक ‘द ब्लैक हिल’ अरूणाचल प्रदेश में भारत..तिब्बत सीमा पर जीवन के ऐसे मुद्दों की बात करती है जिसके बारे में बहुत कम लोगों को पता है। बीकानेर के कवि-आलोचक डॉ. नीरज दइया को वर्ष 2017 के राष्ट्रीय मुख्य पुरस्कार से समादृत किया गया।

दइया को यह पुरस्कार उनकी राजस्थानी भाषा की कृति ‘बिना हासलपाई’ के लिए प्रदान किया गया। इस कृति में आधुनिक राजस्थानी कहानी के समग्र मूल्यांकन के साथ ही पच्चीस कहानीकारों के कहानी विधा के अवदान को विवेचित किया गया है जिसे राजस्थानी आलोचना की महत्त्वपूर्ण उपलब्धि माना गया है। पुरस्कृत कवियों में उदय नारायण सिंह (मैथिली), श्रीकांत देशमुख (मराठी), भुजंगा टुडू (संथाली), निरंजन मिश्रा (संस्कृत) और टी देवीप्रिय (तेलुगू) शामिल हैं।
आखिर आपका आधार कार्ड कहां-कहां हुआ इस्तेमाल, ऐसे जाने

पुरस्कृत लेखकों में शिव मेहता (डोगरी), गजानन जोग (कोंकणी), गायत्री सराफ (उड़िया) और मोहम्मद बेग एहसास (उर्दू) शामिल हैं।
पुरस्कार अर्पण समारोह में संभागियों का स्वागत अकादमी सचिव के. श्रीनिवास राव ने किया। मुख्य अतिथि के रूप में प्रख्यात लेखक किरन नागरकर ने समकालीन साहित्यिक परिदृश्य व चुनौतियों पर विचार साझा किए। कार्यक्रम में राजस्थानी के पूर्व संयोजक डॉ. अर्जुनदेव चारण, वतर्मान संयोजक मधु आचार्य ‘आशावादी’, कवि नवनीत पाण्डे, कहानीकार राजेन्द्र जोशी, रजनी छाबड़ा, लहरी राम मीणा आदि उपस्थित थे। अकादमी उपाध्यक्ष माधव कौशिक ने आभार ज्ञापित किया।

भारतीय रेलवे में लंबे समय से अनुपस्थित कर्मचारियों के खिलाफ कार्रवाई

ओमान में भारतीय समुदाय के लोगों को संबोधित करते हुए बोले पीएम मोदी, भारत विकास के पथ पर अग्रसर

राजस्थान बजट 2018: दिसंबर 2018 से पहले होगी 1 लाख 8 हजार पदों पर भर्ती

पाइए हर खबर अपने फेसबुक पर।   likeकीजिए  hellorajasthan का Facebook पेज।

Leave a Reply