वेंकैया नायडू होंगे देश के अगले उपराष्ट्रपति, विपक्ष के उम्मीदवार गांधी को 272 वोटों से हराया

नई दिल्ली। देश के अगले उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू होंगे, उन्होने विपक्ष के उम्मीदवार गोपाल कृष्ण गांधी को 272 मतों के अंतर से हराकर उपराष्ट्रपति पद का चुनाव जीता है। वेंकैया नायडू को जहां 516 मत प्राप्त हुए, वहीं गोपाल कृष्ण गांधी को 244 वोट मिले। इसकी जानकारी चुनाव अधिकारी शमशेर के शरीफ ने मीडिया को दी।
चुनाव परिणाम आने के बाद उपराष्ट्रपति चुने जाने पर वेंकैया नायडू ने ट्वीट कर कहा, ‘मैं कृतार्थ हूं, मैं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और सभी पार्टी नेताओं का समर्थन देने के लिये आभारी हूं.’। मैं उपराष्ट्रपति संस्था का उपयोग राष्ट्रपति के हाथ मजबूत बनाने के लिए करूंगा और ऊपरी सदन की मर्यादा को कायम रखूंगा। इसके बाद वेंकैया नायडू ने एक अन्य ट्वीट में कहा, ‘किसान पृष्ठभूमि से आने के मद्देनजर मैंने इसकी कल्पना नहीं की थी कि मैं यहां पहुंच सकूंगा। भारतीय राजनीति में कृषि को उपयुक्त आवाज नहीं मिल पाई है।
वेंकैया नायडू के जीत पर पीएम नरेंद्र मोदी ने उन्हें बधाई दी है। पीएम ने ट्वीट किया, ‘वेंकैया के साथ काम करना सौभाग्य की बात। राष्ट्र निर्माण में वेंकैया का योगदान, मुझे भरोसा है कि वो देश के ऐसे उपराष्ट्रपति साबित होंगे जो देश को और ऊंचाई पर ले जाएंगे। पीएम ने ट्वीट कर कहा, ‘उनके साथ काम करने की पूरानी यादें अब भी ताजा हैं. उनके उज्जवल भविष्य के लिए शुभकामनाएं’, वेंकैया नायडू के जीत पर विपक्ष के उपराष्ट्रपति उम्मीदवार गोपाल कृष्ण गांधी ने उन्हें बधाई देते हुए कहा, ‘मैं उन्हें शुभकामनाएं देता हूं. मैं उन सभी सांसदों को धन्यवाद देता हूं जिन्होंने मुझे वोट दिया, उन्होंने बोलने की स्वतंत्रता और बहुलवाद के लिए वोट किया।

जाने उपराष्ट्रपति के बारे में
उराष्ट्रपति वेंकैया नायडू का जन्म एक जुलाई 1949 को आंध्रप्रदेश के नेल्लोर में हुआ था। बीजेपी में शामिल होने से पहले 70 के दशक में आरएसएस और अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद में उल्लेखनीय योगदान दे चुके हैं। आपातकाल के दौरान वो जय प्रकाश नारायण के आंदोलन से जुड़े थे और उस समय वो जेल भी गये थे।
1978 और 1983 में नेल्लोर से विधायक चुने के बाद वो पहली बार 1998 में राज्यसभा सांसद बने। वेंकैया नायडू मोदी सरकार के सबसे वरिष्ठ मंत्रियों में से एक रहे हैं। उन्हें 25 साल का लंबा संसदीय कार्य का अनुभव है, नायडू 4 बार राज्यसभा के सदस्य रहे हैं।
प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी सरकार में 2000 से 2002 तक ग्रामीण विकास मंत्री रहे। वो 2002 से 2004 तक बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष रह चुके हैं, ना सिर्फ वो इंग्लिश, हिंदी, तेलगू, तमिल तमाम भाषाएं जानते हैं, बल्कि पूरे देश में वो एक ऐसा जाना पहचाना चेहरा हैं।
इससे पहले 27 मई 2014 से 5 जुलाई 2016 तक वो संसदीय कार्यमंत्री की जिम्मेदारी भी संभाल चुके है। वर्तमान में सूचना प्रसारण और शहरी विकास मंत्री के रुप में अपनी सेवांए देश को दे रहे थे।

पाइए हर खबर अपने फेसबुक पर।   likeकीजिए  hellorajasthan का Facebook पेज।