गृहमंत्री गुलाब चंद कटारिया ने कहा पुलिस जिंदा पकड़ना चाहते थे, लेकिन जवाबी कार्रवाई में हुआ एनकाउंटर

उदयपुर। गृह मंत्री गुलाब चंद कटारिया ने कुख्यात अपराधी आनंदपाल एनकाउंटर पर कहा कि पुलिस व एसओजी की टीम उसे जिदंा पकड़ना चाहती थी, लेकिन सामने से गोलीबारी हुई और जवाब में एनकाउंटर हुआ। हरियाणा पुलिस के प्रशिक्षु अधिकारी की टीम ने उसके भाई रुपेंद्रपाल सिंह उर्फ विक्की और चचेरे भाई देवेंद्र सिंह उर्फ गट्टू को गिरफतार कर लिया गया। उसके बाद दोनेां भाईयेां से पूछताछ में उन्होने ही आनंदपाल के ठिकाने का खुलासा किया। जिसकी निशानदेही पर इस कार्रवाई का अंजाम दिया गया। गृहमंत्री रविवार को भाजपा मुख्यालय में पत्रकारेां से बातचीत कर रहे थे। पुलिस इसे जिदंा पकड़ना चाहती थी लेकिन गोलीबारी होने पर जवाबी कार्रवाई में इसकी मौत हेा गई।
श्रीकटारिया ने कहा कि हरियाणा में जब दोनों भाईयेां को गिरफतार कर एसओजी ने जब पूछताछ की तो आनंदपाल के चुरु जिले के रतनगढ़ के मालासर गांव के पास ठेकेदार श्रवणसिंह के मकान में होने की जानकारी मिली। जिस पर एसओजी ने चुरु जिला पुलिस अधीक्षक व अन्य अधिकारियेां के साथ मिलकर इस इलाके को घेर लिया। आनंदपाल को बार बार अधिकारियों ने समर्पण करने को कहा, लेकिन उसने समर्पण नही किया और सामने से गोलियां दागनी शुरु कर दी। इस पर जवाबी कार्रवाई में उसको गोलियां लगी और उसने दम तोड़ दिया।
उन्होने कहा कि इसमें 4 जने गंभीर रुप से घायल हो गए है, जिनका एसएमएस में इलाज चल रहा है।

पाइए हर खबर अपने फेसबुक पर।   likeकीजिए  hellorajasthan का Facebook पेज।