इंडिया इंडस्ट्रीयल फेयर-2018 उद्योग दर्शन का उद्घाटन : स्टार्टअप के माध्यम से युवा बनें उद्यमी : कटारिया

1जयपुर। युवा नौकरी तलाशने की बजाय स्टार्टअप के माध्यम से ऐसा उद्यम करें कि जिससे वे दूसरों को नौकरी दे सकें। इसके लिए सबसे सशक्त माध्यम हैं लघु उद्योग। इससे न केवल देश में रोजगार सृजन होगा, बल्कि अर्थव्यवस्था भी और मजबूत होगी।अब घर बैठे आधार से लिंक होगा मोबाइल, पांच जनवरी से बदलेंगे ये 5 नियम
ये विचार राजस्थान सरकार में गृहमंत्री गुलाबचंद कटारिया ने लघु उद्योग भारती और राजस्थान सरकार के एमएसएमईविभाग के संयुक्त तत्वावधान में आयोजित इंडिया इंडस्ट्रीयल फेयर-2018 के उदघाटन समारोह के मुख्य अतिथि के रूप में व्यक्त किये।
जयपुर के सीतापुरा स्थित जेईसीसी में आयोजित इस फेयर में  श्री कटारिया ने देश में बढ़ती बेरोजगारी पर चिंता जाहिर करते हुए कहा कि राजस्थान के दृष्टिकोण से देखा जाए तो खासकर आदिवासी अंचल में लघु उपवन उपज को बढ़ावा देकर स्थानीय लोगों को रोजगार के साधन मुहैया कराए जा सकते हैं। उन्होंने बताया कि लघु उद्योग भारती के जरिए लघु उद्यमियों की समस्याओं के समाधान, उत्पादों की बिक्री के लिए मार्केट उपलब्ध कराने की दिशा में भी वृहद स्तर पर प्रयास किए जाने की जरूरत है। गृहमंत्री ने किसानों की आर्थिक दशा को सुधारने के लिए कृषि उत्पादों के बाय प्रोडेक्ट के लिए और अधिक प्रयास किए जाने पर बल दिया।
समारोह के अध्यक्ष ऊर्जा मंत्री पुष्पेंद्र सिंह राणावत ने उद्योगों के लिए बिजली ट्रांसमिशन में व्यापक सुधार पर बल दिया। उन्होंने कहा कि विद्युत तंत्र में सुधार का ही नतीजा है कि औद्योगिक क्षेत्र में बिजली की छीजत 2 फीसदी से भी कम हो गई है। उन्होंने उद्योगों में रूफ टॉप सोलर सिस्टम अपनाने का आहन किया। इस दौरान लघु उद्योग भारती के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष ओमप्रकाश मित्तल ने हरियाणा की तर्ज पर नए लघु उद्यमियों को बिजली पर सब्सिडी देने की मांग की।
इस मौके पर हरियाणा के श्रम एवं रोजगार मंत्री नायाब सिंह सैनी ने अपने प्रदेश में लघु उद्योग को मजबूत करने के लिए बनाई गई औद्योगिक निवेश नीति-2015 का जिक्र किया। उन्होंने कहा कि देश में छोटे उद्योगों को बढ़ावा देने की जरूरत है। सैनी ने कहा कि इसके लिए हरियाणा में वन रूफ सिस्टम लागू किया गया है जिससे आवेदन के पश्चात निर्धारित 45 दिन की अवधि में उद्योग लगाने की स्वीकृति प्रदान की जाती है। उन्होंने समारोह में शामिल उद्यमियों से हरियाणा में निवेश का आह्वान भी किया।
इस दौरान रीको के सीएमडी व एसीएस राजीव स्वरूप ने इस फेयर की सराहना की। उन्होंने कहा कि ऐसे आयोजनों से उद्यमियों को मार्केटिंग का उचित माध्यम तो मिलता ही है, साथ ही स्वयं की पहचान भी बनती है। राजीव स्वरूप ने पिछले डेढ साल के दौरान नोटबंदी व जीएसटी की पेचीदगियों के कारण उद्यमियों को आर्थिक व कानूनी दृष्टि से आई दिक्कतों का जिक्र किया। उन्होंने कहा कि तमाम समस्याओं के बावजूद उद्योग और सुदृढ हुए हैं। उन्होंने राज्य सरकार की ओर से लघु उद्योगों की दिशा में किए जा रहे प्रयासों के बारे में बताया। राजीव स्वरूप ने कहा कि रीको का डी-सैंट्रलाइजेशन कर लघु उद्योगों को और मजबूत किया जाएगा। साथ ही उन्होंने कहा कि रीको के रूल्स का सरलीकरण कर उद्यमियों को राहत प्रदान की गई है। इससे प्रदेश में औद्योगिक निवेश को बढ़ावा मिला है।
उद्योग आयुक्त कुंजीलाल मीणा ने उद्योग विभाग व लघु उद्योग भारती के इंडिया इंडस्ट्रीयल फेयर की सफलता के लिए किए गए प्रयासों की सराहना की। भारतीय स्टेट बैंक के सीजीएम विजयरंजन ने कहा कि लघु उद्यमियों को ऋण मुहैया कराने के लिए एसबीआई तत्पर है। लघु उद्योग भारती के राष्ट्रीय अध्यक्ष जितेंद्र गुप्त ने संगठन के अब तक किए गए प्रयासों के बारे में जानकारी दी। छतीसगढ़ औद्योगिक विकास निगम एसोसिएशन के अध्यक्ष छगन मूंदड़ा ने अपने प्रदेश के विकास में उद्योगों की भूमिका पर प्रकाश डाला। इस मौके पर एसपी मोहंती ने भी अपने विचार रखे। लघु उद्योग भारती के प्रदेश अध्यक्ष ताराचंद गोयल ने स्वागत भाषण दिया। उद्योग दर्शन के संयोजक महेंद्र खुराना ने सभी का आभार व्यक्त किया। उदघाटन समारोह का मंच संचालन एलयूबी के राष्ट्रीय कोषाध्यक्ष सीए योगेश गौतम और एलयूबी जयपुर प्रांत के सचिव महेंद्र मिश्रा ने किया। इससे पहले सभी अतिथियों को श्रीफल, शॉल और प्रतीक चिन्ह प्रदान कर सम्मानित किया गया।
अतिथियों ने स्टाल्स का किया अवलोकन 

चार दिवसीय फेयर के उदघाटन के पश्चात अतिथियों ने देशभर के उद्यमियों द्वारा लगाई गई स्टाल्स का अवलोकन किया। फेयर के संयोजक महेंद्र खुराना ने बताया कि इस बार विभिन्न राज्यों के करीब 800 उद्यमियों ने स्टाल लगाई हैं। उन्होंने बताया कि अनुसूचित जाति/जनजाति व महिला उद्यमियों को प्रोत्साहित करने के लिए उन्हें स्टाल का नि:शुल्क आवंटन किया गया है।

Loading...