अमानीशाह नाले पर बना 35 साल पुराना पुल गिरा

जयपुर। राजधानी की सबसे चौड़ी 12 लेन सडक़ पर गोपालपुरा पुलिया से गुर्जर की थड़ी मार्ग पर स्थित अमानीशाह नाले का करीब 35 साल पुराना पुल मंगलवार दोपहर को भरभराकर अचानक गिर गया। तीन में से एक लेन का करीब 15 मीटर लंबा व 12 मीटर चौड़ा हिस्सा गिर जाने से अनहोनी की आशंका के चलते पुलिस ने अन्य दो लेन से भी वाहनों की आवाजाही पूरी तरह से रोक दी। इसके बाद गोपालपुरा पुलिया से मानसरोवर मेट्रो स्टेशन की ओर आने-जाने वाले वाहनों को रिद्धी-सिद्धी चौराहे से शिप्रापथ पुलिया की ओर डायवर्ट कर दिया। टे्रफिक के डायवर्ट करने से शिप्रापथ पुलिया से गंगा-जमना पेट्रोल पंप की ओर जाने वाली सडक़ पर वाहनों का लंबा जाम लग गया। प्रत्यदर्शियों के मुताबिक एक पुलिसकर्मी की सजगता के कारण पुल से गुजर रहे डंपर को रुकवा लेने से बड़ा हादसा टल गया। यह डंपर करीब 35 टन बजरी लेकर गुर्जर की थड़ी से निर्माणाधीन शिप्रापथ की पुलिया की ओर आ रहा था। पुलिसकर्मी ने अपनी बाइक रोककर क्षतिग्रस्त पुल की लेन में आ रहे डंपर को इशारा करके रुकवा दिया। इसके बाद स्थानीय लोगों की मदद से गुर्जर की थड़ी व रिद्धी-सिद्धी चौराहे पर अवरोधक लगाकर वाहनों की आवाजाही रोक दी गई। पुल गिरने के चार घंटे तक नगर निगम के जिम्मेदार अधिकारी-कर्मचारी मौके पर नहीं पहुंचे। इससे स्थानीय लोगों में आक्रोश फैल गया। हालांकि जयपुर विकास प्राधिकरण के एक्सईएन सहित कई इंजिनियर मौके पर पहुंचे लेकिन उन्होंने स्थिति का जायजा लेने के बाद पुल उनके क्षेत्राधिकार का नहीं होने की बात कहकर वापस लौट गये। शाम करीब चार बजे जेसीबी की सहायता से पुल के अन्य हिस्से को बचाने के लिए कटाव स्थल पर मिट्टी के कट्टे लगाने का कार्य शुरू किया गया। वहीं, राजधानी में कई घंटे तक लगातार हुई बारिश के कारण रिद्धी-सिद्धी चौराहे के पास भी सडक़ धंस गई। इससे वाहनों का जाम लग गया। इसके बाद दो ट्रॉलियां मिट्टी डालकर कटाव को पाट दिया गया।

सीवरलाइन का मेनहॉल खुलने से गिरा पुल

जेडीए के एक्सईएन मुकेश मीणा ने बताया कि अमानीशाह नाले पर बना पुल नगर निगम के क्षेत्राधिकार में आता है। उन्होंने बताया कि पुल के पास ही एलीवेटिड सीवरलाइन के पाइप हैं। सीवरलाइन का मेनहॉल खुलने के कारण पूरा पानी पुल की दीवार में जाने की वजह से एप्रोच टूटकर गिर गया।

तमाशबीनों का लगा जमावड़ा

टूटे हुए पुल को देखने के लिए सैकड़ों तमाशबीन मौके पर पहुंच गए। पुलिसकर्मियों के बार-बार रोकने के बावजूद लोग क्षतिग्रस्त पुल के मोबाइल से फोटोग्राफ लेते रहे। तमाशबीनों की हरकतों से परेशान पुलिस ने उन्हें बाद में खदेड़ दिया।

टे्रफिक डायवर्जन से लोग हुए परेशान

जयपुर के रास्ते से अजमेर-दिल्ली-आगरा आने-जाने के लिए 12 लेन की इस महत्वपूर्ण सडक़ का पुल क्षतिग्रस्त हो जाने से हजारों वाहन चालकों को परेशानी का सामना करना पड़ा। इस मार्ग पर दर्जनों की संख्या में कोचिंग संस्थान होने के कारण चौबीसों घंटे वाहनों का अत्यधिक दबाव रहता है। कोचिंग के लिए आने-जाने वाले स्टूडेंट्स को भी भारी परेशानी झेलनी पड़ी। वहीं, रिद्धी-सिद्धी चौराहे से शिप्रापथ पुलिया-मेट्रो मास हॉस्पिटल-गंगा जमना पेट्रोल सडक़ मार्ग पर यातायात का दबाव कई गुना होने से वाहनों की लंबी कतारें लग गईं। यातायात को सुचारू करने के लिए स्थानीय युवाओं ने भी पुलिस का सहयोग किया।

पानी की निकासी के लिए लगे पाइप बने खतरा

सडक़ पर भरने वाले बारिश के पानी को अमानीशाह नाले में डालने के लिए लगाये गए पाइप पुल के लिए खतरा बन गये हैं। गुर्जर की थड़ी निवासी सुरेश मीणा ने बताया कि जेडीए की ओर नाले में पानी डालने के लिए हाल ही में पाइप लगाये गए हैं। इन पाइपों के नीचे कंकरीट नहीं बिछाने की वजह से पानी के कारण इसके आसपास की मिटटी में कटाव आ गये हैं। कटाव के जरिये पानी पुल की एप्रोच में जाएगा जिससे बचा हुआ हिस्सा भी कभी गिर सकता है। उन्होंने बताया कि सीमेंटयुक्त कंकरीट बिछाकर पाइप डालने की मांग को लेकर रविवार को दिन में विरोध कर काम रुकवा दिया था। इसके बाद ठेकेदार ने रातोंरात बिना कंकरीट के ही पाइप डलवा दिये।

Loading...
Breaking News
राजस्थान :बुनकरों की आय बढ़े, गांव सशक्त और समृद्ध बनें-श्री मेघवाल श्रीगंगानगर: सीमावर्ती क्षेत्र में सीमा सुरक्षा बल ने पकड़ा डोडा पोस्त तस्कर राजस्थान : बेहतर सर्विस डिलीवरी से सरकार की योजनाओं का लाभ आमजन तक पहुंचाएं- मुख्यमंत्री ‘उड़ान’ योजना: पहली सस्ती फ्लाइट मु्ंद्रा-अहमदाबाद के बीच शुरू पंजाब की युवती से चलती ट्रेन में गैंगरेप राजस्थान : प्रदेश का चमकता हुआ सूरज बनकर उभरेगा बाड़मेर - मुख्यमंत्री राजस्थान : केंद्रीय राज्यमंत्री के प्रयास लाए रंग: बीकानेर में बनेगा 100 बैड का ईएसआईसी अस्पताल राजस्थान :बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ: डाक विभाग ने पश्चिमी क्षेत्र के 202 गाँवों को बनाया शत-प्रतिशत सुकन्या समृद्धि ग्राम राजस्थान :अकादमी द्वारा 48 पांडुलिपियों पर 5.74 लाख रु. तथा 22 पुस्तकों पर 2 लाख 20 हजार रु. का सहयोग स्वीकृत आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं की सभा - महिलाएं हर चुनौती का सामना करने में सक्षम - मुख्यमंत्री